अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM sauBaaYa Kro kI rcanaaeM

AMjaumana maoM
yao maorI badnasaIbaI
dastanao ga,ma

kivataAaoM maoMó
pirvat-na
Ba`ma
]ma`
vyaapar
AaSaa

 

]ma`

saagar ko iknaaro
gaIlaI rot pr
caMd kdmaaoM ko inaSaana
ijanakI ]ma` kovala
AgalaI lahraoM tk hI saIimat hO
@yaaoM [tnao inaiScaMt hOM
]naka naata
rot AaOr panaI sao hO
yaa ]na kdmaaoM sao
jaao rot kao
pla Bar phlao
raOMd cauko hOM.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter