अंजुमन उपहार । कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम
गौरवग्रंथ
दोहे रचनाएँ भेजें नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन
हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 


AnauBaUit maoM sauBaaYa Kro kI rcanaaeM

AMjaumana maoM
yao maorI badnasaIbaI
dastanao ga,ma

kivataAaoM maoM—
pirvat-na
Ba`ma
]ma`
vyaapar
AaSaa

 

yao maorI badnasaIbaI

yao maorI badnasaIbaI ik maora tuJa saa nasaIba nahIM
yao torI KuSanasaIbaI ik tora mauJa saa nasaIba nahIM

lauTa cauka hUM nasaIba Apnaa kuC [sa trh
ik jaao maoro nasaIba maoM qaa vaao hI mauJao nasaIba nahIM

jaao mauJa sao dUr dUr hOM vaao maoro pasa nahIM
jaao maoro pasa hOM vaao BaI maoroo krIba nahIM

ijana ko pasa saba kuC hO ]nakI tao baat jaanao dao
ijana ko pasa kuC BaI nahIM vaao BaI mauJasao garIba nahIM

jaao hao sakta qaa vaOsaa tao kuC huAa nahIM
jaao hao gayaa hO Aba lagata mauJao AjaIba nahIM

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमन। उपहार। कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे रचनाएँ भेजें
नई हवा
पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।