अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM sauBaaYa Kro kI rcanaaeM

AMjaumana maoM
yao maorI badnasaIbaI
dastanao ga,ma

kivataAaoM maoMó
pirvat-na
Ba`ma
]ma`
vyaapar
AaSaa

 

vyaapar

duinayaa ko baajaar maoM
jahaM vah KalaI jaoba laokr Aayaa qaa
tmaama KrIdarI ko baad
ihsaaba lagaayaa ik
@yaa Kaoyaa @yaa payaa qaa
saMbaMQaaoM ko maaolaBaava
saMvaodnaaAaoM kI ibaňI
AaOr kt-vyaaoM ka vajana krayaa qaa
yaa saara samaya gaMvaayaa qaa.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter