अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM svayama d%ta' kI
rcanaaeM—

Anajaana
ABaI tao isaf- dIyaa jalaa hO
caah 
inavaodna
rasto

 

 

 

  rasto

yao rasto —
iktnao sajaIva haoto hOM
laaogaaoM ko kdmaaoM tlao
[nako nasaIba haoto hOM
pa jaato hO saba
[na pr calakr maMija,laoM
sabaka saaqa dokr BaI
yao rh jaato hOM Akolao
na kao[- zhrava
na kao[- jamaava
dUr dUr tk [nakI
yaadaoM ka ibaKrava
kao[- imalato hO
kao[- ibaCD, jaato hO
na kao[- [nasao imalata
na yao ibaCD, pato hO
nahIM idKta [sa BaID, maoM
kao[- caohra kao[- haqa
do sako jaao [naka
dma kdma saaqa
saaocata hUM A@sar
[na rastaoM pr calakr
kaSa bana jaa}M
maOM [naka hmasafr.
 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter