अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

गुमो
विश्वजाल पर गुलमोहर से संबन्धित कविताओं का संकलन

अनुक्रम

   गीत

1. कबसे खड़ी है गुलमुहर संतोष कुमार सिंह
2. गुलमोहर पूर्णिमा वर्मन
3. गुलमोहर खिल गए डॉ. जगदीश व्योम
4. गुलमोहर खिला है प्रियव्रत चौधरी
5. गुलमोहर की छाँह में रामेश्वर कांबोज हिमांशु
6. गुलमुहर के फूल शांति सुमन
7. गुलमोहर के फूल अवध बिहारी श्रीवास्तव
8. गुलमोहर के फूल गिरिमोहन गुरु
9. चिलचिलाती हुई धूप में नीलम श्रीवास्तव
10 फूले हैं फूल गुलमुहर के नीलम श्रीवास्तव

11

हम ही गुलमोहर हो बैठे नीलम जैन

12

गुलमोहर की छाँव में राधेश्याम बंधु

13

सिंदूरी पीले गुलमोहर विनोद निगम

   ग़ज़ल

7. gaulamaaohr ko naIcao Saas~I ina%yagaaopala kTaro
8. gauilastaM kI Ada hO jagadISa p`saad sarsvat 'ivakla tOyaba'
9. tIna ?a[yaaM samaIr laala 'samaIr' va maaohna vamaa- 'saaihla'
10. Pyaara gaulamaaohr Da^ , rmaa iWvaodI
11. lagao gaunagaunaanao gaulamaaohr rakoSa KMDolavaala
     

   छंदमुक्त में-

12. eo gaulamaaohr AiSvana gaaMQaI
13. gaulamaaohr maMjau maihmaa BaTnaagar
14. gaulamaaohr ka poD, saaoihnaI dyaala
15. gaulamaaohr ka vaRxa hirhr Jaa
16 gaulamauhr kI trh maInaa CoD,a
17. gaulamaaohr: dao dRSya [laa p`saad
18. gaulamaaohr: tIna dRSya p`%yaxaa
19 gaulamaaohr: paMca dRSya AaSaa baIr
20 gaulamaaohr ilae ?tugaMQa rakoSa KMDolavaala
21 p`tIxaa hO gaulamaaohr kI maO~oyaI
  आरक्त गुलमोहर शोभनाथ यादव
  गुलमोहर गुलज़ार

   ha[ku

22

dsa gaulamaaohr ha[ku Baavanaa kuMvar
     

   daoho

23

gaulamaaohr kI CaMh  pUiNa-maa vama-na

25

maadk gaulamaaohr sa%yanaarayaNa isaMh

24

hMsao gaulamaaohr laala dIipka jaaoSaI 'saMQyaa'

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter