अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में गौरीशंकर आचार्य ‘अरुण’ की रचनाएँ -

अंजुमन में-
अच्छी सी कुछ बात करें
और दिन आए न आए
दरिया तो वही है
धूल काफी जमा है
नहीं कभी भी ऐतबार हुआ
हम समंदर के तले हैं

 

धूल काफी जमा है

धूल काफी जमा है कहीं न कहीं।
इसलिए आब-ए-दरिया निखरता नहीं।

क्या हुआ है सियासत क्यों खामोश है,
जुर्म से आज कोई क्यों डरता नहीं।

जो भी गुजरा यहां से वो शैतान था,
आदमी क्यों इधर से गुजरता नहीं।

ये मुसा फर नहीं इन पे रखना नजर,
इनका म.कसद असल में स फर का नहीं।

बन्द मिलती नहीं गर हमें खिडकियाँ,
हमको मिलना तुम्हारा अखरता नहीं।

फैंक कर पत्थरों को वो हैरान है,
आशियाँ क्यों ये हमसे बिखरता नहीं।

२७ दिसंबर २०१०

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter