अंजुमनउपहार काव्य संगम  गीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहेसंकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर

 ओम प्रकाश यती

जन्म- ३ दिसंबर १९५९ को छिब्बी गाँव, जिला बलिया, उत्तरप्रदेश, भारत में।

शिक्षा- इंजीनियरिंग तथा विधि में स्नातक और हिंदी साहित्य में एम.ए.

कार्यक्षेत्र- हिन्दुस्तानी ग़ज़लें, ग़ज़ल दुष्यन्त के बाद, ग़ज़ल एकादशी तथा कई अन्य महत्वपूर्ण संकलनों में ग़ज़लें सम्मिलित। कन्नड़ कविता के अनुवादक कवि।

प्रकाशित कृतियाँ-
बाहर छाया भीतर धूप (ग़ज़ल संग्रह)
सच कहूँ तो (ग़ज़ल संग्रह)

संप्रति- उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग में सहायक अभियंता पद पर कार्यरत

ईमेल- yatiom@gmail.com

 

अनुभूति में ओम प्रकाश यती की रचनाएँ—

नई रचनाएँ-
कितने टूटे कितनों का मन हार गया
छिपे हैं मन में जो
छीन लेगी नेकियाँ
बुरे की हार हो जाती है

हँसी को और खुशियों को

अंजुमन में-
अँधेरे जब ज़रा
आदमी क्या
इक नई कशमकश
खेत सारे छिन गए
नज़र में आजतक
बहन बेटियाँ
बहुत नज़दीक
बाबू जी

मन में मेरे

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter