अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में कमलेश भट्ट कमल की रचनाएँ—

नई रचनाओं में—
उम्र आधी हो चली है
ऐसा लगता है

क्या हुआ
मुकद्दर उसके जैसा

अंजुमन में—
झुलसता देखकर
न इसकी थाह है
नदी
नसीबों पर नहीं चलते
ना उम्मीदी में
पेड़ कटे तो
वहाँ पर
समंदर
हज़ारों बार गिरना है
हमारे ख्वाब की दुनिया

दोहों में—
छे दोहे

हाइकु में—
आठ हाइकु
होली हाइकु

 

ऐसा लगता है

ऐसा लगता है कि उसमें ज़िंदगी है ही नहीं
जैसी होती थी कभी वैसी नदी है ही नहीं

गाँव से लेकर शहर तक हर जगह मौजूद है
किंतु जेहनों में हमारे रोशनी है ही नहीं

लोग बहलाने लगे हैं खुद को बच्चों की तरह
जिसको पाकर खुश हैं वो असली खुशी है ही नहीं

चैनलों से मंच तक चर्चा है जिसकी, धूम है
और कुछ भी हो मगर वह शायरी है ही नहीं

भर रहा है जाने कब से लोगों के दिल में धुआँ
आग-सी लगती है लेकिन आग-सी है ही नहीं

बिन परिश्रम ही दिला दे कामयाबी जो हमें
ऐसी तो कोई भी जादू की छड़ी है ही नहीं

कुछ न दुख होगा रईसों को, लगा था दूर से
पास जाने पर लगा, कोई सुखी है ही नहीं!

१० अगस्त २००९

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter