अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में शीतल श्रीवस्तव की रचनाएँ

छंदमुक्त में-
एहसास
कल्पना
कैसे कह दूँ
जी हाँ मैं कवि हूँ
बहस
बहुत हो चुका
गीत लिख कर
पर इतना कैसे
प्रगति
पुलिस और रामधनिया
सहजता

संकलन में
ज्योति पर्व - दीपकों की लौ

 

गीत लिख कर

गीत लिख कर फिर
अकेले मे बैठ गुन गुनाऊँगा
थक कर जब तुम ऊब चुके होगे
महफिलों से
हतोत्साहित हो चुके होगे
अपनी तलाश में
तुम्हारी आस्था को फिर से पनपाने
धीरे से बैठ कर अकेले में
तुम्हे एक गीत सुनाऊँगा
गीत जिसे तुम गा न सके
शब्द जिन्हें मुखरित कर न सके
तुम्हारे वे शब्द
जो तुम्हे व्याकुल किये रहते थे
तुमसे ही ले कर
धीरे से बैठ कर अकेले मे
तुम्हे सुनाऊँगा
महशस कर सकोगे
शब्दों के स्पन्दन को
अपने ही अन्दर
मानो अनजाने मे तुमने
खुद ही ये गीत गाये थे
मेरे गीत तुम्हारे ही तो हैं
तुम्हारा तुमको सौंप कर
धीरे से बैठ कर अकेले में
फिर एक गीत गुनगुनऊँगा

१ दिसंबर २००१

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter