अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में विक्रम पुरोहित की रचनाएँ-

छंदमुक्त में-
औघड़
कविता बचती है
खामोशी
दो कबूतर
बचपन

छोटी कविताओं में-
पाँच छोटी कविताएँ

 

दो कबूतर

आज फिर,
कई दिनों के बाद
अच्छा लगा
उन दोनों कबूतरों का
कमरे मे आना
जिन पर
लिखी थी चंद रोज़ पहले
मेने एक नन्ही कविता !
मगर आज
नहीं थी पहले-सी गूटर-गूँ
एक अंतहीन खामोशी थी
उनके ओर मेरे बीच
मैं उन्हे देख मुस्कुराया
प्रतिक्रिया स्वरूप,
उन्होने अभिवादन मे
पंखों को फड़फड़ाया
आंखो ही आँखों मे
एक-दूजे का हाल समझाया
कितना सहज ,
इन परिंदो को समझाना ,
वरना उम्र बीत जाती है इंसानों को समझाने में !

२ जनवरी २०११

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter