अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में डॉ. जयजयराम आनंद की रचनाएँ-

नए दोहों में-
सन्नाटे में गाँव

दोहों में-
ताल ताल तट पर जमे
प्रदूषण और वैश्विक ताप

गीतों में-
अम्मा बापू का ऋण
आम नीम की छाँव
आँखों में तिरता है गाँव
केवल कोरे कागज़ रंगना
बहुत दिनों से
भूल गए हम गाँव
मेरे गीत
शहर में अम्मा

सुख दुख इस जीवन में
 

 

सुख दुख इस जीवन में

गीतों का शृंगार करेंगें
सुख दुःख इस जीवन में

जब से होश सँभाला मैंनें
माँ ने पाठ पढाया
गिरना उठना आगे बढ़ना
गीता सार बताया
लुका-छिपी का खेल रचेंगें
सुख दुःख इस जीवन में

बापू ने खलिहान खेत में
जगमग ज्योति जलाई
मिलीं विरासत में सौगातें
ज्यों की त्यों लौटाईं
फूँक फूँक कर कदम रखेंगे
सुख दुःख इस जीवन में

जब दुःख आए आँसू पीना
सुख में मत इतराना
राम राम कह सुख 'बनिया' को
तीते घाव सुखाना
नवगीतों का खाट बुनेंगे
सुख दुःख इस जीवन में

--११ जनवरी २०१०

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter