अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM AaSaIYa EaIvaastva kI rcanaaeMó

ek AaOr idna
#vaaba
KulaI iktaba
ija,ndga,I
tlaaSa
p`itiňyaa
ha[ Tok Pyaar

 

 

ek AaOr idna

baIt gayaa ek AaOr idna
iGar AayaI ek AaOr kalaI rat
qama gayaI kuC pla AaOr ija,ndga,I
[Mtja,ar hO saubah ka
krnao kao ek nayaI Sau$vaat

kT rha baD,I baOcaonaI sao
hr idna hr ek pla
bana gayaa hO ifr ek
Aanaovaalaa pla ek gaujara kla
kuC phlao kI qaI ek  Sau$vaat
laokIna pata hUM Kudkao
]saI maaoD, pr
laTkayao KalaI haqa

saaocaa qaa imala gayaI mauJao
ek nayaI rah
laokIna pata hUM Kudkao
]saI maaoD, pr
KDa maO Akolaa

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter