अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM AaSaIYa EaIvaastva kI rcanaaeMó

ek AaOr idna
#vaaba
KulaI iktaba
ija,ndga,I
tlaaSa
p`itiňyaa
ha[ Tok Pyaar

 

 

ha[ Tok Pyaar

maOnao ek ima~ sao pUCa
saca saca batanaa maoro yaar
@yaa tuma krto hao iksaI sao Pyaar
javaaba Ap`%yaaiSat na qaa
vaao BaI iksaI sao Pyaar krta qaa.

maOnao ifr pUCa
maoro yaar—
jaba BaI maO tumasao imalaa 
hr baar
tumharo iksaI saaqaI kao 
doKa naa dUsarI baar
ifr BaI tuma krto hao iksaI sao Pyaar

javaaba Aayaał
" tuma iksa duinayaa mao rhto hao yaar
yao hO hmaara ha[ Tok Pyaar
yao hmaara ]saUla hO
Agar maaDola saaqa naa cala sako
tao maaDola hI badla Dalaao yaar
yahI hO [@kIsavaI sadI ka Pyaar."

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter