अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM AaSaIYa EaIvaastva kI rcanaaeMó

ek AaOr idna
#vaaba
KulaI iktaba
ija,ndga,I
tlaaSa
p`itiňyaa
ha[ Tok Pyaar

 

 

tlaaSa

tlaaSa rha hUM maMO ]sao
jaao CUT gayaa hO mauJasao
kla tk tao pata qaa Apnao krIba maO ijasao
Aaja vaao Kao gayaa hO mauJasao .

maMijala tao krIba AayaI nahIM hO ABaI
ABaI BaI idllaI dUr hO
ifr @yaaoM maora sabala hI mauJasao
ibaCuD,nao kao majabaUr hO ∆

jaIvana maUlyaaMo kao samhalanaa iktnaa kizna hO
kafI kuC rot sao BarI mau{I kI trh
ijatnaa jyaada pkD,aogao ksa ko [sao
]tnaa hI ifsalanao sao raok naa paAaogao ]sao .

tlaaSa rha hUM maO ]sao
jaao maoro saaro savaalaao ka javaaba hO
ifr sao ]sao panao kI caah maorI
ek maRgatRYNaa hO yaa kao[- #vaaba hO ∆

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter