अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM AaSaIYa EaIvaastva kI rcanaaeMó

ek AaOr idna
#vaaba
KulaI iktaba
ija,ndga,I
tlaaSa
p`itiňyaa
ha[ Tok Pyaar

 

 

#vaaba

#vaaba doKta hUM maO
@yMaao ik
maO saaocata hUM
#vaaba hO maoro sapnaao ka dp-Na .
hr #vaaba mao CupI haotI hO
AaSaaAaMo kI kao[- ikrNa .

maO jaanata hUM
pUro haogao maoro #vaaba
@yaaoM ik 
maoro #vaabaao ka Qaratla hO yahIM khIM
rh kr jamaIM pr maMijala maoM AasamaMa nahI
hMa hr #vaaba ko ilayao
rhta hUM hr pla maO baotaba
@yaao ik
nahI caahta maO kao[ caaMd yaa Aaftaba.

maorI hr AakaMxaa ka p`tIk
hO maoro #vaaba
doto hO vao ijadMgaI ko hr savaala ka javaaba
ijanaka kao[ #vaaba nahIM
]nakI kao[- maMijala nahIM
ApnaI maMijala tk phucanao kI
rah sauJaaMto hOM #vaaba.
hMa maO doKta hUMM #vaaba .

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter