अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM basaMt Aaya- 
kI rcanaaeM

nayaI kivataeMó
kcara
caar mau@t Cnd
dao xaiNakaeM
naota ka naja,iryaa
badlaava
maora ku%ta
safodI ka raja,

Aa[naa 
kaOna hao tuma
naota jaI ka iTkT
maora ek sapnaa hO
rasta

 

 

  maora ek sapnaa hO

maora ek sapnaa hO
ik maOM ek sapnaa doKMU

sapnao maoM tU maoro saaqa hao
maoro haqaaoM maoM tora haqa hao
samandr iknaaro saUKI rot pr baOzo
DUbato saUrja kao inaharto hue
jaba tumharo jaulfaoM kao
SaaoK hvaayaoM yaMU hI CoD, do
tao tumharI ibaKrI hu[- laTaoM kao
maOM caupko sao saMvaar dMU

maora ek sapnaa hO
ik maOM ek sapnaa doKMU

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter