अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे
पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में विनोद तिवारी की रचनाएँ-

नई रचनाओं में-
कुछ इस क़दर
चलते जाने का धर्म
ज़मीन पाँव तले
सड़कें भरीं

हर दिशा में

अंजुमन में-
आपस में लड़कर
काल की तेज़ धारा
देखे दुनिया जहान
पल निकल जाएँगे

 

देखे दुनिया जहान

देखे दुनिया जहान चिड़िया ने
मापा कुल आसमान चिड़िया ने।

ऊँची ऊँची अटारियों से कहा
देखो मेरी उड़ान, चिड़िया ने।

मीठा मीठा सा गीत गाया है
कितना उस बेज़ुबान चिड़िया ने।

बिन किराये के ले लिया मुझसे
एक हिस्सा मकान चिड़िया ने।

वक़्त गुज़रा मगर न आने दी
पास अपने थकान चिड़िया ने।

तिनका तिनका चढ़े अकेले ही
उम्र के पायदान चिड़िया ने।

नन्हीं जाँ, हौसले से पास किया
हर बड़ा इम्तिहान चिड़िया ने।

२० जुलाई २००९

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter