अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में अवतंस कुमार की रचनाएँ

नई रचनाओं में-
क़द्रदान
का से कहूँ
खुशियाँ

हादसा

छंदमुक्त में-
अहसास
आज मुझे तुम राह दिखा दो
दरमिया
पैबंद

विवेक
शाम और शहर
पत्ता और बुलबुला

मैं और मेरी तनहाई

  दरमियाँ

स्याह से बोझिल कमरे में
हाथ-भर चौड़ी मेज़ों पर झुके चेहरों के समंदर बीच
टिमटिमाती मोमबत्तियों की रौशनी भर के फ़ासले।
मेज़ के एक सिरे पर तुम बैठी थीं,
अपने कुहनियों को मेज़ पर टिकाए।
और उस मद्धिम-सी रौशनी में दमकते
अपने चाँद से चेहरे को अपने हाथों में उठाए।
उसी मेज़ के दूसरे सिरे पर बैठा मैं
तुम्हारी उन्मादी आँखों में डूबते-उतराते
अपलक निहारता रहा था...
निःशब्द,
निश्छ्ल,
निस्पन्द,
बेलौस।
तुम्हारे कानों के बालियों की रुनझुन,
एपिल साइडर की गर्म चुस्कियाँ,
हवा में रोमांस बिखेरती
दालचीनी की भीनी-भीनी खुशबू,
और कुछ कहने को बेताब फड़फड़ाते होंठ।
अनायास ही तुम्हारी उँगलियों का छू जाना।
फिर तुम्हारा हौले से मेरी हथेली को चूमना।
वक्त ठहर-सा गया एकदम।
और जो दरमयाँ था टिमटिमाती रौशनियों का
पिघल कर बह गया मोम की तरह।

३१ मार्च २००८

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है