अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 


अनुभूति में इला प्रसाद की कविताएँ—

नई रचनाओं में-
रिक्ति
ठंड
संदेश

कविताओं में-
तलाश
अंतर
दीमक
बाकी कुछ
मूल्य
रास्ते
यात्रा
विश्वास
सूरज

संकलन में-
मौसम–मौसम- कल रात
रोज़ बदलता मौसम

तलाश

सुनो,
तुम कुछ तो बोलो
न बोलने से भी
बढ़ता है अँधेरा।

हम कब तक अपने-अपने अंधेरे में बैठे,
अज़नबी आवाजों की
आहटें सुनें!

इंतज़ार करें
कि कोई आए
और तुमसे मेरी
और मुझसे तुम्हारी
बात करे।

फिर धीरे-धीरे पौ फटे
हम उजाले में एक दूसरे के चेहरे पहचानें
जो अबतक नहीं हुआ
तब शायद जानें
कि हममें से कोई भी ग़लत नहीं था।

परिस्थितियों के मारे हम,
ग़लतफ़हमियों के शिकार बने
अपनी ही परिधि में
चक्कर काटते रहे हैं।

कहीं कुछ फँसता है
रह-रहकर लगता है
कौन जाने!

बिंदु भर की ही हो दूरी,
कि हम अपनी-अपनी जगह से
एक कन आगे बढ़ें
और पा जाएँ वह बिंदु
जहाँ दो आसमान वृत्त
परस्पर
एक दूसरे को काटते हैं।

सच कहना
तुम्हें भी उसी बिंदु की तलाश है ना?

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।