अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

मीना चोपड़ा

मीना चोपड़ा जन्म उत्तर भारत में नगर नैनीताल में हुआ। वे बहुमुखी प्रतिभा की स्वामिनी हैं|  बी. एस सी. करने के उपरान्त टेक्सटाइल डिज़ाइनिंग में शिक्षा ग्रहण की। इनकी कविताएँ अनेक राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं। वे हिन्दी के अतिरिक्त अन्य भाषाओं में भी लिखती रही हैं।

वे कवयित्री होने के साथ-साथ चित्रकार भी हैं तथा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अनेक कला-प्रदर्शनियाँ कर चुकी हैं। उन्होंने २००२ में ’साऊथ एशियन ऐसोसिएशन ऑफ़ रीजनल कोऑपरेशन’ द्वारा आयोजित कलाकारों की सभा में भारत का प्रतिनिधित्व भी किया था। वे कला और साहित्य की अनेक राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं से जुड़ी हैं। उनके चित्र भारत तथा कई अन्य देशों में सरकारी, व्यवसायिक तथा संग्रह-कर्ताओं के कला संग्रहों में हैं।

ई मेल : meenachopra17@gmail.com

 

अनुभूति में मीना चोपड़ा की कविताएँ-

नई रचनाओं में-
अमावस को
इश्क
एक अंतिम रचना
कुछ निशान वक्त के
ख़यालों में
मुट्ठी भर
सार्थकता

कविताओं में-
अवशेष
ओस की एक बूँद
गीत गाती
विस्मृत
स्तब्ध
सनन-सनन स्मृतियाँ


 

   

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter