अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

धनंजय सिंह

जन्म: २९ अक्टूबर १९४५
शिक्षा- एम ए , पीच. डी ( हिन्दी) शोध विषय: महाभारत के उपजीव्य आधुनिक खंडकाव्यों में पौराणिक सन्दर्भ एवं आधुनिक चेतना

प्रकाशित कृतियाँ:
पलाश दहके हैं (गीत-नवगीत, कविता संग्रह) देशभर की पत्र-पत्रिकाओं में लेख, समीक्षा, गीत, नवगीत, कविताएँ आदि प्रकाशित।
सम्पादन: २० संकलन, २ कहानी संग्रह, १ जीवनी का सम्पादन
फिल्म और डॉक्यूमेंट्री: फिल्म 'अंतहीन' हेतु गीत लेखन और डॉक्यूमेंट्री 'चलो गाँव की और' की पटकथा लेखन।
सम्मान: उ.प्र. हिन्दी संस्थान से साहित्य भूषण सम्मान

सम्प्रति : मुख्य कौपी सम्पादक (कादम्बनी) से सेवानिवृत्ति के बाद स्वतन्त्र लेखन

ई-मेल: dhananjaysingh1945@gmail.com

 

अनुभूति में धनंजय सिंह की रचनाएँ-

गीतों में-
दिन क्यों बीत गए

ध्वन्यालोकी प्रियंवदाएँ
पानी थरथराता है
बेच दिये हैं मीठे सपने
भाव विहग
मधुमय आलाप
मौन की चादर

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter