अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 

बिंदु भट्ट

जन्म: राँची, झारखण्ड, 1951
कार्यक्षेत्र: लायब्रेरियन - आजकल कोलम्बिया युनिवर्सिटि, न्यू योर्क में साउथ एशियन स्ट्डीज़ लायब्रेरियन हूँ।
लिखना बचपन से प्रिय रहा है. लिखती हूँ, क्योंकि लिखा जाता है। कविताएं स्कूल कालेज की पत्रिकाओं में, साप्ताहिक 'धर्मयुग" में. डा. अन्जना संधीर द्वारा संपादित 'प्रवासिनी के बोल" तथा' सृजनगाथा" में छपी हैं। कुछ गुजराती और अँग्रेज़ी में भी लिखा है। वैसे मैं सोचती हिन्दी में ही हूँ.

ई मेलः bindu.bhatt@gmail.com

अनुभूति में बिंदु भट्ट की रचनाएँ

नई रचनाएँ
अकस्मात
चित्र
तीन छोटी कविताएँ- दिशा मौत हृदय-दर्पण
समर्पित
 

कविताओं में
खुद को परखना
जीना टुकड़े टुकड़
दो छोटी कविताएँ

भोले चेहरे
मैं
वसंत
शब्द

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।