अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM rMjanaa saaonaI kI rcanaaeM—

nayaI kivataeM—
kma- AaOr saMGaYa-
nava vaYa-
ptJaD,I Saama
barKa bahar
BaagaIrqaI
mamata
savaala

kivataAaoM maoM—
gaunagaunaI QaUp
bacapna
bayaar
Baava
maQauyaaimanaI
Sard ?tu

  barKa bahar

barsa Aa¸ Aao barKa bahar
jaIvana rsa kI fuhar
jala rha saMsaar bana davaanala.

AasamaaM maoM TkTkI lagaae
AanaMd kI fuhar kao
caUmanao kao hO baotaba¸
ga`````ama–AMcala–vaaisanaI bahueM.

jautI hue Qara sao
Aa rhI hO saaoMQaI KuSabaU¸
hiryaalaI sao Bar jaanao kao
Baaolao iksaana kI hMsaI CupI hO¸
toro hI jaIvanadayaI rsa maoM.

naaca rha vana maoM mayaUr
saavanaI JaUlao ko saaqa.
p``NayaI jaaoD,o BaI trsa rho
svaatI baMUd¸ daimanaI naR%ya AaOr
baadla kI AzKoilayaaoM kI Aasa maoM
Aba tao barsa¸ Aao barKa bahar.

24 isatMbar 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter