अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में ॉ. कृष्ण कन्हैया की रचनाएँ -

नई रचनाओं में-
अतिक्रमण
खुशी
सौदा
चरित्
विचार
विवेक
छाया

अंजुमन में-
कहने सुनने की आदत
क्षण-क्षण बदलाव
जिन्दगी मुश्किल मेरी थी

यादें

छंद मुक्त में-
आयाम
उम्दा
एहसान
किताब ज़िंदगी की
खाई
जिन्दगी का गणित
जिन्दगी की दौड़
रेशमी कीड़ा
रात
ललक
वस्त्र
सामीप्य
वैमनस्य

 

चरित्र

चरित्र-
सतयुग का यथार्थ
त्रेतायुग की विचारधारा
और
द्वापरयुग का परिपेक्ष नहीं
बल्कि-
कलियुग का भी
निर्धारित मापदण्ड है
जो यह सुनिश्चित करता है
कि-
यह आदर्श
और आंतरिक ताक़त,
दूसरों के लिए
आईना बने
जिसमें
आदर्श का
प्रतिबिम्ब भव्य लगे
और
सबका चेहरा
साफ-साफ दिखे ।

२६ मार्च २०१२

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter