अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में ॉ. कृष्ण कन्हैया की रचनाएँ -

नई रचनाओं में-
अतिक्रमण
खुशी
सौदा
चरित्
विचार
विवेक
छाया

अंजुमन में-
कहने सुनने की आदत
क्षण-क्षण बदलाव
जिन्दगी मुश्किल मेरी थी

यादें

छंद मुक्त में-
आयाम
उम्दा
एहसान
किताब ज़िंदगी की
खाई
जिन्दगी का गणित
जिन्दगी की दौड़
रेशमी कीड़ा
रात
ललक
वस्त्र
सामीप्य
वैमनस्य

 

ज़िंदगी मुश्किल मेरी

जिन्दगी मुश्किल मेरी थी, आप सहल कहते हैं
दोस्तों की ना -नुकुर थी, आप पहल कहते हैं

मैं नहीं कहता कभी कुछ, आँख करती है बयाँ
बेज़ुबां की तर्ज़ुबानी , आप ग़ज़ल कहते हैं

खेत को मिलता नहीं था, बीज, पानी, मेघ हल
ज़ुल्म - हाहाकार उपजा, आप फसल कहते हैं

खून से लथफथ, हजारों आदमी की लाश पर
वह खडा है मकबरा सा, आप महल कहते हैं

सूख कर पत्थर हुआ है, खुशबुएँ घटती गयी
कागजों पे रह गया है, आप कँवल कहते हैं

जिन्दगी बरसात बन कर,शाम-सुबह, आये दिन
छू गयी है पाँव केवल, आप गुसल कहते हैं

मुख्तसर होती गयी है, खूबियो की फेहरिस्त
खामियाँ फल दे रहा है, आप फज़ल कहते हैं

ज़ुल्म से डरता नहीं हूँ, आदतों में रख लिया
वक़्त की सरगोशिओं को, आप दखल कहते हैं

चोर है रहबर बना अब, झूट कहना है सही
देश का फरमान है यह, आप चुहल कहते हैं

मुश्किलें परवाज़ बनकर, हौसलों के अंजुमन
जिंदगी की दौड़ मुश्किल, आप सहल कहते हैं

१७ जनवरी २०११

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter