अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में मोहन राणा की रचनाएँ—
नई रचनाएँ—
अर्थ शब्दों में नहीं तुम्हारे भीतर है
कोई बात
डरौआ
पतझर में
पानी का चेहरा

क्षणिकाओं में—
पाँच क्षणिकाएँ

कविताओं में—
अपनी कही बात
अपने आप
अस्तव्यस्त में
आरी की कीमत
एक गरम दिन की स्मृति
किताब का दिन
कुआँ
कुछ कहना
कुछ भी
चार छोटी कविताएँ
चिड़िया
चिमनी
चींटी तथा अन्य छोटी कविताएँ
टेलीफोन
तीसरा युद्ध
धोबी
पतझर एक मौसम तुम्हारे लिए
फिलिप्स का रेडियो
फोटोग्राफ़ में
बड़ा काम
बोध
माया
मैं
राख
सड़क का रंग

संकलनों में—
गुच्छे भर अमलतास - ग्रीष्म
सनटैन लोशन
१५ मई
पिता की तस्वीर - डाक

  क्षणिकाएँ

आज का मौसम
इस आकाश को रंग दूँ इस सुबह
इस स्लेट पर लिख दूँ कुछ
कुछ जो बदल दे
सारे अर्थ बिना शब्दों के-

शरद
पीले होते और जैसे उसी पल वे गिर पड़ते
इतने सुंदर और अचानक यह अंत,
या मैं ही पहुँचा देर से इस पल

क्या
उसका कोई और रंग होता
तो क्या मैं उसे प्रेम न करता
इसलिए पसंद है नीला रंग क्या

सफेद सुबह
उसका कोई और रंग होता
तो क्या मैं सोचता आज
उसके रंग के बारे में
वह अगर काली होती तो
सुबह न होती फिर

युद्ध अभी नहीं, कभी नहीं, बर्तोल्त ब्रेश्त सांस
कहते हम अपने से, दूसरे से कि युद्ध नहीं,
युद्ध नहीं लड़ पड़ते इसी बात पर
रक्त से लिखते शांति इश्तिहारों पर,
किस की है यह साँस इस सन्नाटे में

१६ जुलाई २००६

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है