अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में आकुल की रचनाएँ-

नयी कुंडलियों में-
वर दो ऐसा शारदे

कुंडलिया में-
सर्दी का मौसम
साक्षरता

संकलन में-
मेरा भारत- भारत मेरा महान
नया साल- आया फिर नव वर्ष
देश हमारा- उन्नत भाल हिमालय

नीम- नवल बधाई
दीप धरो- उत्सव गीत
होली है-
होली रंगों से बोली

 

 

साक्षरता

(१)
बच्चे, बूढ़े, नार, नर, पाएँ अक्षर ज्ञान।
अनपढ़ दुनिया को भला, क्या समझें नादान।
क्या समझें नादान, कूप मंडूक रह जाते,
जो शिक्षित हों आज, वही ज्ञानी बन पाते।
कह आकुल कविराय, न साक्षर खाएँ गच्चे।
पाएँ अक्षर ज्ञान, नार, नर, बूढ़े, बच्चे।

(२)
कल पढ़ता हो आज पढ़, पढ़ना ही भवितव्य।
राह अशिक्षित कठिन है, दूर बहुत गंतव्य।
दूर बहुत गंतव्य, मिलेंगे छल प्रतिकारी।
और निरक्षर मूढ़, ढोंग ओढ़े व्यभिचारी।
कह "आकुल" कविराय, ज्ञान हासिल हो हर पल,
आत्म शुद्धि, संस्कार, सँवारे शिक्षा ही कल।

२९ अक्तूबर २०१२

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter