अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में चंद्रभान भारद्वाज की रचनाएँ -

नई रचनाएँ-
खोट देखते हैं
ज़िन्दगी बाँट लेंगे
फँसा आदमी
नदी नाव जैसा

अंजुमन में-
अधर में हैं हज़ारों प्रश्न
आदमी की सिर्फ इतनी
उतर कर चाँद
कदम भटके
कागज पर भाईचारे
कोई नहीं दिखता
गगन का क्या करें
जब कहीं दिलबर नहीं होता
गहन गंभीर
तालाब में दादुर
दुखों की भीड़ में
नाज है तो है
पीर अपनी लिखी
मान बैठे है
रात दिन डरती हुई-सी

रूप को शृंगार
सत्य की ख़ातिर
सिमट कर आज बाहों में

संकलन में- होली पर

  रूप को शृंगार

रूप को शृंगार मिल जाए ज़रूरी तो नहीं,
ज़िन्दगी को प्यार मिल जाए ज़रूरी तो नहीं।

बंद आँखें रात भर जिसकी प्रतीक्षा में रहीं,
स्वप्न वह सुकुमार मिल जाए ज़रूरी तो नहीं।

कल्पनाएँ नित बनातीं भव्य सपनों के महल,
पर उन्हें आकार मिल जाए ज़रूरी तो नहीं।

चाहता है मन कभी ऐसा कभी वैसा बनूँ,
पर वही किरदार मिल जाए ज़रूरी तो नहीं।

मानिनी बन कर यहाँ बैठी हुई है भावना,
मान को मनुहार मिल जाए ज़रूरी तो नहीं।

आँख के बाहर कभी आने नहीं देना उसे,
अश्रु को पुचकार मिल जाए ज़रूरी तो नहीं।

प्यार की प्रस्तावना को आज 'भारद्वाज' इक,
सौम्य उपसंहार मिल जाए ज़रूरी तो नहीं।

२५ मई २००९

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter