उत्सव नव वर्ष का
पत्र व्यवहार का पता

अभिव्यक्ति तुक-कोश

२६. १२. २०१५

अंजुमन उपहार काव्य संगम गीत गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति
कुण्डलिया हाइकु अभिव्यक्ति हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर नवगीत की पाठशाला रचनाकारों से

    साल पुराना

 कोई कोशिश

 

111

बीत रहा है साल पुराना
मेरी माँ की आँखें नम हैं!

आँख-मिचौनी से मौसम ने
फ़सल लील डाली है अबकी-
भूखे पेट कभी दो रोटी
जाने क्या मर्ज़ी है रब की!

अपने बच्चों के बस्तों से
कापी और किताबें कम हैं!

साल नया है हाल पुराना
बाबूजी हरदम कहते हैं-
अक्सर उन्हें चिढ़ाती दौलत
खुले गगन में जो रहते हैं।

बाहर नहीं निकलते दद्दू
सर्दी बहुत जुराबें कम हैं

लिए वोडका नये साल में
अपनी-अपनी बाँच रहे हैं-
ये कर डाला, वो कर डाला
डीजे धुन में नाच रहे हैं।

थर-थर कलुआ काँप रहा है
दुश्मन से क्या रातें कम हैं?

- शैलेश वीर 
  कोई कोशिश बढ़ जाने की
रुकी नहीं है
इच्छा चाहे लसर गयी हो
झुकी नहीं है

नये साल का सूरज आया
फिर कुछ कहता सुनना है क्या?
कौन भरोसा करे कहे का
उलझा मतलब, बुनना है क्या?

हरकत जड़वत हुई भले पर
चुकी नहीं है।

हमने अकसर खूब सुना है
मन के मारे मार कहाता
होनी-करनी हरदम अपनी
दूर रहा हर बार विधाता

पिट-पिट पग-पग सीख मिली
बेतुकी नहीं है।

चाहा, देखूँ मसें खेत की
पाला-मारे दाग़ बने थे
वही हवा अब तिरछे छूती
जिससे कितने राग बने थे

आग ओटती, किन्तु, हथेली
धुकी नहीं है।

- सौरभ पाण्डेय
उत्सव नव वर्ष का



गीतों में-

bullet

अश्विनीकुमार विष्णु

bullet

आकुल

bullet

उमाप्रसाद लोधी

bullet

डॉ. प्रदीप शुक्ल

bullet

पद्मा मिश्रा

bullet

प्रणव भारती

bullet

शैलेश वीर

bullet

सौरभ पाण्डेय

bullet

-

दोहों में-

bullet

ज्योतिर्मयी पंत

bullet

रघुविन्द्र यादव

bullet

-

bullet

-

अंजुमन में-

bullet

कल्पना रामानी

bullet

सुरेन्द्रपाल वैद्य

bullet

--

bullet

-

छंदमुक्त में-

bullet

अमृता प्रीतम

bullet

उमेश मौर्य

bullet

जयप्रकाश मानस

bullet

-

bullet


 

अंजुमनउपहार काव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंकसंकलनहाइकु
अभिव्यक्तिहास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतरनवगीत की पाठशाला

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है।

Google
Loading
प्रकाशन : प्रवीण सक्सेना -- परियोजना निदेशन : अश्विन गांधी
संपादन¸ कलाशिल्प एवं परिवर्धन : पूर्णिमा वर्मन

सहयोग :
कल्पना रामानी