शुभ दीपावली

अनुभूति पर दीपावली कविताओं की तीसरा संग्रह
पहला संग्रह ज्योति पर्व
दूसरा संग्रह दिए जलाओ

अनुक्रम

कविताएँ

1.

अंधियारा हँसता है

निशेष जार

01.11.05
2. अब न जाने खील सा डॉ जगदीश व्योम 01.11.07
3. अबकी बार दिवाली में डॉ. आदित्य शुक्ल 09.11.07
4. आओ बच्चों मनाएँ दिवाली राजश्री 09.11.07
5.

आज न अब तुम दीप जलाओ

मदनमोहन उपेंद्र

16.10.06
6.

इस बार दिवाली पर

दिगंबर नास्वा

24.10.06
7.

उजियाले की रोली

सजीवन मयंक

16.10.06
8. एक दीपक पूर्णिमा वर्मन 01.11.07
9. क्यों न तुमने दीप बाला महादेवी वर्मा 01.11.07
10. कितने दीप जलाऊँ द्वारे

संतोष कुमार सिंह

16.10.06
11. कोई किरन नाचती जैसे सजीवन मयंक 09.11.07
12. ज्योतिर्मय है हर दिशा निर्मला जोशी 12.10.09
13. जंगल में दीवाली

निशेष जार

16.10.06
14. जन जन के मन में हो प्रकाश राधेश्याम 01.11.07
15. जीता दीपक डॉ रामसनेही लाल शर्मा यायावर 01.11.05
16. त्योहार है दीवाली का असीम नाथ त्रिपाठी 01.11.07
17. तो समझो दीवाली है डॉ आदित्य शुक्ल 16.10.06
18. द्युति दमके (कवित्त) जगदीश प्रसाद सारस्वत विकल 16.10.06
19. दिया जलता रहे रामेश्वर दयाल कांबोज हिमांशु 09.11.07
20. दिये जलाओ डॉ सुरेश प्रकाश शुक्ल 16.10.06
21. दिये जलें तो ऐसे जलें अश्विन गांधी 01.11.05
22. दिवाली अनूप भार्गव 01.11.05
23. दिवाली हरि बिंदल 09.11.07
24. दिवाली अपनी रही खूब वीरेंद्र जैन 01.11.07
25. दिवाली हाइकु भावना कुंअर 01.11.07
26. दीप डॉ. सरिता शर्मा 16.10.06
27. दीपक महेंद्र भटनागर 01.11.07
28. दीपक एक जलाना साथी राममूर्ति सिंह अधीर 16.10.06
29. दीपक तले अंधेरा अशोक कुमार वशिष्ठ 01.11.05
30. दीप का संदेश सुनो तुम डॉ. सरस्वती माथुर 09.11.07
31. दीप जलाएँ गौरव ग्रोवर 01.11.05
32. दीप जला दो आंगन आंगन राममूर्ति सिंह अधीर 01.11.05
33. दीप जलेंगे राजेश कुमार सिंह 01.11.05
34. दीप तुल्य उजियार (कुंडली) जगदीश प्रसाद सारस्वत विकल 16.10.06
35. दीपदान मैथिलीशरण गुप्त 01.11.05
36. दीप मन के जले सजीवन मयंक 09.11.07
37. दीपावली कंचन सिंह चौहान कंचन 01.11.05
38. दीपावली मधु संधु 01.11.07
39. दीपावली शोभा महेंद्रू 01.11.07
40. दीपावली त्यौहार गौरव ग्रोवर 09.11.07
41. दीपावली मनाऊँ उमाशंकर वर्मा साहिल 16.10.06
42. दीपावली हाइकु अरविंद चौहान 09.11.07
43. दीवाली आठ (रुबाइयाँ) उदयभानु हंस 16.10.06
44. दिवाली आई है मथुरा कलौनी 16.10.06
45. दीवाली की रात डॉ जगदीश व्योम 01.11.05
46 दीवाली के दोहे सरदार कल्याण सिंह 01.11.07
47 दीपक हाइकु अनेक कवि 16.10.06
48 धरा पर गगन हरिहर झा 09.11.07
49 परी है रोशनी सजीवन मयंक 16.10.06
50 प्रकाश या अंधकार मीनाक्षी धन्वंतरि 09.11.07
51 पास आई दीवाली वीरेंद्र जैन 01.11.07
52 फिर आई दीवाली डॉ जगदीश व्योम 16.10.06
53 फिर दिवाली आई है अरविंदर चौहान 09.11.07
54 बधाई बधाई देवी नांगरानी 09.11.07
55 मंगलमय दीवाली (मुक्तक) शास्त्री नित्यगोपाल कटारे 16.10.06
56 माटी के दीपक डॉ. सरिता शर्मा 16.10.06
57 रोशनी का गीत डॉ. राजश्री रावत राज 16.10.06
58 वहीं पे दीप जलेगा राजेंद्र पासवान घायल 16.10.06
59 सुनो अंधेरा डॉ रामसनेही लाल शर्मा यायावर 01.11.07

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है