अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में डॉ. सुरेन्द्र भूटानी की रचनाएँ

नई रचनाएँ-
अर्ज़
इंतज़ार
दिल इक तन्हा मुसाफ़िर
भ्रमग्रस्त जीव
यादों की अँधेरी बंद गुफ़ाएँ
विवशता
सीढ़ियाँ जहाँ ख़त्म होती हैं

नज़्मों में-
अनोखे तूफ़ान
आत्मविरोध
इब्तिदा
एक ज़िन्दगी तीन किरदार
एक हिस्सेदार से
खेल
ग़फलत
गीत
नई दोस्ती
नया संसार
नाकामयाबी
दोस्त से
प्रतिक्रिया
बारह रुबाइयाँ
बेबसी
विरोध
शख्सियत

  शख़्सियत

दिल भी न कर सका कभी तर्जुमानी अपनी
ख़लिश साँसों में आ आ कर बेबस तड़पती रही
अपने फ़रेबे मुसलसल का तज़करा होता रहा
गम़े ज़िन्दगी बस अपनी दास्तां अक्सर बुनती रही

नवेदे-सोज़े-जाँ ने जब कभी परचम लहराया
शिकस्तगी पल भर के लिए कहीं सो ही गई
किसे तो राबिता था मेरी बेचैन धड़कनों से कभी
ज़लज़लों की मारी ये धरती कहीं खो ही गई

ये तारीख़ अपनी जंजीरों से लिपटती रही बारहा
अहसास अपने सीने में ज़हर-सा बनता ही गया
नाचीज़ तमन्नाओं के तुफ़ैल बेसूद घड़ियों में
ये शख़्से नामुराद अपने ढंग में ढलता ही गया

कौन इसको पहचाने यही ज़िन्दगी की पहचान है
जुगनुओं की कसम इस तीरगी में भी जान है

१ अप्रैल २००५

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है